Articles

गोरखपुर में राजधानी-सिलहटा बांध कटा, चौरीचौरा क्षेत्र के दर्जन भर गांव डूबे

Dec 7, 2021 pm31 12:53pm

तबाही मचा रही नदियां गुरुवार रात से शुक्रवार सुबह तक हुई तेज बारिश से और विकराल हो गई हैं। गोर्रा नदी के किनारे स्थित राजधानी-सिलहटा बांध कट जाने से दर्जन भर से अधिक गांव पानी से घिर गए हैं। राप्ती-रोहिन, सरयू और आमी नदी में उफान की वजह से गोरखपुर-वाराणसी तथा बांसगांव-खजनी मार्ग पर आवागमन पूरी तरह रोक दिया गया है। वहीं गोरखपुर में चौरीचौरा-फरेन लाने का आमघाट बांध टूटने से भी कई गांव जलमग्न हो गए हैं। अन्य लगभग सभी बंधों पर दबाव बढ़ गया है। बंधों में लगातार रिसाव से ग्रामीणों की सांसें अटकी हुई हैं। राप्ती 1998 के उच्चतम जलस्तर से महज 22 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। सिद्धार्थनगर में यह रिकॉर्ड टूट चुका है। गोरखपुर-बस्ती मंडल के बाकी जिलों में नदियां या तो खतरे के निशान से ऊपर हैं या जलस्तर स्थिर है। 


गोरखपुर में राप्ती-रोहिन, गोर्रा और सरयू खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बाढ़ की विभीषिका से जिले के तकरीबन पौने 300 गांव बुरी तरह प्रभावित हैं। लोग घर-बार छोड़कर ऊंचे स्थानों पर जा रहे हैं। पशुओं को लेकर लोगों ने बंधों और सड़कों के किनारे डेरा डाल दिए हैं। गुरुवार रात से शुक्रवार सुबह तक हुई बारिश ने दुश्वारियां और बढ़ा दीं। आमी भी जमकर तबाही मचा रही है। नकबैठा पुल के समीप पानी चढ़ जाने और स्थिति भयावह बन जाने के कारण गोरखपुर-वाराणसी मार्ग पर आवागमन ठप कर दिया गया है। बांसगांव-खजनी मार्ग पर भी यातयात रोक दिया गया है। गोरखपुर से वाराणसी की तरफ जाने वाले छोटे-बड़े सभी वाहन खजनी, सिकरीगंज-गोल होकर आ-जा रहे हैं। 

Source: https://www.livehindustan.com/uttar-pradesh/story-rajdhani-sylheta-dam-cut-in-gorakhpur-a-dozen-villages-in-chaurichaura-submerged-in-flood-water-4504383.html

 

Articles